डॉ नुस्खे शुगर कण्ट्रोल टी शरीर में ग्‍लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करती है,और इन्‍सुलिन दवा के हानिकारक प्रभावो को कम करने में मदद करती है । इसलिए जो लोग शुगर (मधुमेह) से पीड़ित हैं उनको इसका सेवन करना चाहिए।
डॉ नुस्खे शुगर कण्ट्रोल टी में मोमोर्डिका क्वारंटीन (momordica quarantine) है जिसे हिन्दी में करेला भी कहते है करेले में पॉलीपेप्टाइड (polypeptide) नामक तत्व मौजूद होता है, बोवाइन इंसुलिन (bovine insulin) के समतुल्य होता है। रिसर्च स्टडीज़ में यह पाया गया है कि, जब शर्करा या कोई मीठा तत्व शरीर में पहुंचता है तो यह शरीर को इसे बर्दाश्त करने के योग्य बनाने में मदद करता है, करेला एक उत्तेजक की तरह शरीर में प्रभाव डालता है। करेला शरीर में शर्करा (sugar) के स्तर को कम करने में मदद करता है, जिससे डायबिटीज़ में लाभ होता है। इस प्रकार डॉ नुस्खे शुगर कण्ट्रोल टी दोनों प्रकार की डायबिटीज टाइप 1 और टाइप 2 के लिए फायदेमंद है।

डॉ नुस्खे शुगर कण्ट्रोल टी में है जामुन, जामुन रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में बहुत मदद कर सकता है क्योंकि इसमें एन्थॉयनिनिन, एलेगिक एसिड, हाइड्रोलायसेबल टैनिनस आदि शामिल हैं। आयुर्वेद के हिसाब से जामुन की गुठली डायबीटीज के मरीजों के लिए बेहतरीन औषधि है। डॉ नुस्खे शुगर कण्ट्रोल टी के सेवन से शुगर कंट्रोल में रहती है और अपनी लाइफ को पूरी तरह इंजॉय कर पाते हैं।

सेवन विधि :

6 ग्राम से 12 ग्राम 1 गिलास पानी में उबालकर सुबह शाम ले