1610688584-viryasodhan 500gm.jpg

Dr nushkhe viryasodhan 2


998

15 product left

SKU: DNV2.

Categories: MEN Sexual Wellness

Tag:

वीर्यशोधन शुक्र में रहे हुए दूषित घटको का शोधन करती है, उष्णता (गर्मी) का शमनकर स्तंभनशक्ति को बढ़ाती है, तथा शुक्राशय और शुक्रवाहिनी के वातप्रकोप और शिथिलता को दूर करती है।
वीर्यशोधन शुक्र में रहे हुए दूषित घटको का शोधन करती है, उष्णता (गर्मी) का शमनकर स्तंभनशक्ति को बढ़ाती है, तथा शुक्राशय और शुक्रवाहिनी के वातप्रकोप और शिथिलता को दूर करती है। वीर्य शोधन एक आयुर्वेदिक औषधि है जो स्वप्नदोष, शीघ्रपतन, नपुंसकता, शारीरिक और मानसिक निर्बलता, शरीर का दुबलापन, पाचन शक्ति और स्मरणशक्ति की कमी होना आदि को दूर करता है । अनुचित और अनियमित ढंग से आहार-विहार और कामुक आचरण करने की वजह से वीर्य दूषित, पतला और निर्बल हो जाता है जिससे आजकल अधिकांश युवक इन शिकायतों से पीड़ित हैं । वीर्य को शुद्ध, पुष्ट और सबल बनाए बिना अन्य वाजीकारक औषधियों का सेवन करने से पूरा लाभ नहीं होता या नहीं भी होता और दवाओं पर किया गया भारी खर्च वैसे ही बेकार हो जाता है जैसे मैले कपड़े को रंगने पर ठीक से रंग नहीं चढ़ता इसलिए वाजीकारक, बलवीर्यवर्द्धक या पौष्टिक दवाइयों के साथ-साथ वीर्यशोधन का सेवन करना भी ज़रूरी है। वीर्यशोधन शुक्र में रहे हुए दूषित घटको का शोधन करती है, उष्णता (गर्मी) का शमनकर स्तंभनशक्ति को बढ़ाती है, तथा शुक्राशय और शुक्रवाहिनी के वातप्रकोप और शिथिलता को दूर करती है।

Related Products